Friday, September 22, 2023

पुस्तकालय ही देवालय तक जाने का मार्ग प्रशस्त करते हैं- डॉ राजेंद्र प्रसाद

Must Read

जिनवाणी मैनेजमेन्ट कॉलेज में दो दिवसीय रोजगार मेला का शुभारम्भ

आरा। जिनवाणी मैनेजमेन्ट कॉलेज में दो दिवसीय रोजगार मेला का शुभारम्भ आज हुआ। मुख्य अतिथि स्वरूप पधारे...

बलभद्र जी की जन्मोत्सवों एवं पूजनोत्सव बड़े ही धूमधाम से मना

आरा ब्याहुत कलवार सेवा संघ के नवादा आरा स्थित प्रधान कार्यालय में कलवार समाज के कुल देवता...

बलभद्र जयंती के लिए पूरे जिले में जनसंपर्क, 21 सितंबर होगा कार्यक्रम

आरा। वियाहूत कलवार सेवा संघ द्वारा आयोजित बलभद्र जयंती समारोह 21 सितंबर को लेकर समीक्षा बैठक सतनारायण...

आरा आनंदनगर में प्रसिद्ध इतिहासकार के नाम पर स्थित ” प्रो.के.राय वाचनालय ” की स्थापना शाहाबाद बुद्धिजीवी मंच के भागीरथ प्रयास का परिणाम है। इसकी स्थापना 04 जून,2014 को हुई थी। इस पुस्तकालय के आजीवन संरक्षक विद्यालय प्राचार्य डॉ.राजेन्द्र प्रसाद हैं। अपने अनुसंधान के दरम्यान डॉ.प्रसाद प्रो.के.राय से इतने अधिक प्रभावित हुए कि अपने गुरु के मार्गदर्शन में शाहाबाद बुद्धिजीवी मंच के बैनर तले सैकड़ों सेमिनार का आयोजन किया। इनके सेमिनार मेंं प्रो. यू.एस.पाण्डेय, प्रो.नंदजी दूबे, प्रो. कमला बाबू, प्रो.राम तवक्या सिंह, प्रो.रामनंदन मिश्रा, प्रो.राघवेन्द्र प्रसाद, छपरा विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति दुर्ग विजय सिंह जैसे अनेक मूर्धन्य विद्वानों ने शिरकत किए हैं। इनके अतिरिक्त बिहार प्रशासनिक सेवा के वरीय उपसमाहर्ता एवं साहित्यकार बुद्ध प्रकाश, साहित्यकार जीतेन्द्र बाबू, न्यायाधीश आर.डी.पॉल, डी.एस.पी.द्वारिका बाबू, माध्यमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष मुक्तेश्वर उपाध्याय, चन्द्रमा बाबू, वामपंथी विचारक आग्रेनंद चौधरी जैसे अनेक बुद्धिजीवियों का सहयोग रहा है। विदित है कि प्रो.के.राय द्वारा लिखित अस्सी से अधिक पुस्तकें देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों के छात्र एवं अनुसंधानकर्ता अध्ययन करते हैं। इस मंच के आजीवन सदस्य एवं क्रांतिकारी लेखक की चर्चित पुस्तक” शाहाबाद के सात अध्याय’ एवं “देख कबीरा रोया” कालजयी पुस्तकें हैं। इनका कहना है कि पुस्तकालय ही देवालय तक जाने का मार्ग प्रशस्त करते हैं। इसलिए हर घर में पूजा स्थल की तरह पुस्तक स्थल अवश्य हों। जिस घर में पुस्तकालय हों,उस घर में रहनेवालों को कभी तनाव की बीमारी नहीं हो सकती। किताबों से अच्छा कोई मित्र नहीं हो सकता। मैं अपनी अन्तिम सांस तक हाथ में कलम और किताब देखना चाहता हूँ। मेरे पुस्तकालय मे लगभग तीन हजार से अधिक पुस्तकें हैं।

Latest News

जिनवाणी मैनेजमेन्ट कॉलेज में दो दिवसीय रोजगार मेला का शुभारम्भ

आरा। जिनवाणी मैनेजमेन्ट कॉलेज में दो दिवसीय रोजगार मेला का शुभारम्भ आज हुआ। मुख्य अतिथि स्वरूप पधारे...

बलभद्र जी की जन्मोत्सवों एवं पूजनोत्सव बड़े ही धूमधाम से मना

आरा ब्याहुत कलवार सेवा संघ के नवादा आरा स्थित प्रधान कार्यालय में कलवार समाज के कुल देवता भगवान बलभद्र जी की जन्मोत्सवों...

बलभद्र जयंती के लिए पूरे जिले में जनसंपर्क, 21 सितंबर होगा कार्यक्रम

आरा। वियाहूत कलवार सेवा संघ द्वारा आयोजित बलभद्र जयंती समारोह 21 सितंबर को लेकर समीक्षा बैठक सतनारायण प्रसाद वियाहूत की अध्यक्षता में...

आयुष्मान भारत योजना’ के तहत आयुष्मान कार्ड की महत्व – प्रवक्ता संजीव कुमार मिश्र

आरा। भारतीय जनता पार्टी भोजपुर द्वारा स्थानीय आरा परिसदन सभागार मे प्रदेश प्रवक्ता संजीव कुमार मिश्र,बड़हरा विधायक राघवेन्द्र प्रताप सिंह,पूर्व सांसद मीना...

दो दिवसीय रोजगार मेला का आयोजन जिनवाणी मैनेजमेन्ट कॉलेज, सिकन्दरपुर

आरा। जिनवाणी मैनेजमेन्ट कॉलेज, सिकन्दरपुर, आरा में 21 एवं 22 सितम्बर 2023 को दो दिवसीय रोजगार मेला का आयोजन किया जा रहा...

More Articles Like This

Translate »