होमस्पेशल स्टोरीविभा-2025 के मंच से बहु प्रतिभा संपन्न राजीव प्रताप रूडी करेंगे संबोधित

विभा-2025 के मंच से बहु प्रतिभा संपन्न राजीव प्रताप रूडी करेंगे संबोधित

ARA. तीन दशक से भी अधिक समय से राजनीति में सक्रिय रहकर जनसेवा के विविध आयामों से आमजन को लाभान्वित करने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री और सारण सांसद राजीव प्रताप रुडी शनिवार 19 नवम्बर को भोजपुर पहुंच रहे है। यहां वे गैर राजनीतिक मंच विभा-2025 में अपना संबोधन देंगे। बता दें कि विभा-2025 एक मंच है जिसका उदेश्य बिहार के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए विचारों का आदान-प्रदान कर एक कार्य योजना बनाना है। जिसमें अपने गाँव घर को छोड़कर रोजगार की तलाश में किसी अन्य प्रदेश या विदेश गये प्रत्येक बिहारी के साथ ही पत्रकार, अधिवक्ता शिक्षक या अन्य बुद्धिजीवियों से जुडकर उनके विचारों का आदान-प्रदान करना है। यह मंच अपने कार्यक्रम में सभी दल, धर्म एवं जाति के लोगों को आमंत्रित कर यह जानने का प्रयास करता है कि बिहार को विकास के अग्रणी पंक्ति में लाने के लिए क्या नीति बने। आज के वक्ता रुडी बहुमुखी प्रतिभा वाले लंबे राजनीतिक अनुभव और दशकों की जनसेवा के अनुभवी राजनेता है। उनके अनुभव का लाभ आमजन तक पहुंच सके इसलिए मंच द्वारा उन्हें मुख्य वक्ता के रूप में आमंत्रित किया गया है। रुडी विविध प्रतिभाओं से संपन्न राजनेता है न केवल राजनीतिक जीवन में बल्कि अन्य गतिविधियों में भी संलग्न है और दूसरे तरीकों से भी आमजन की सेवा में लगे है। रुडी दुनिया में ऐसे इकलौते सांसद है जिनका नाम लिमका बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में इसलिए दर्ज है कि वो सांसद होने के साथ-साथ एक व्यावसायिक लाइसेंसधारक पायलट भी है। इसके अलावा पठन-पाठन में रुची रखने वाले रुडी महाविद्यालय में अर्थशास्त्र के शिक्षक तो है ही साथ ही पटना उच्च न्यायालय में पंजीकृत वरिष्ठ अधिवक्ता भी है।
सारण लोकसभा क्षेत्र से सांसद होने के साथ भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता का दायित्व बखूबी निभाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री रुडी ने अपने राजनीतिक जीवन के पैंतीस वर्ष और LLB डिग्री धारण करने के छत्तीस वर्षों के बाद पटना उच्च न्यायालय में अधिवक्ता का चोला पहने भी दिखते है। रुडी का मानना है कि पढ़ाई और डिग्री प्राप्त करने के लिए उम्र की कोई सीमा नहीं है। इसलिए जब भी मौका मिले, कोई पाठ्यक्रम या कोई कोर्स पूरा करना चाहिए। ज्ञान का उपयोग कभी भी और किसी भी स्थिति में हो सकता है। मैंने सामान्य अध्ययन के साथ-साथ एलएलबी की भी डिग्री हासिल की, इसके पश्चात कमर्शियल पायलट भी बना और पटना के महाविद्यालय में अध्यापक भी। ये तमाम बातें शंकर झा आजाद ने गुरुवार को प्रेस कांफ्रेंस कर जानकारी दी थी।

Click To Join Us on Telegram Group

Must Read

Translate »