होमअपराधइतने खूंखार जानवरों को लेकर भारत आना चाहता है यूक्रेन में फंसा...

इतने खूंखार जानवरों को लेकर भारत आना चाहता है यूक्रेन में फंसा डॉक्टर…

नई दिल्ली: जैसे- जैसे भारतीय, जिनमें से ज्यादातर छात्र हैं, युद्धग्रस्त यूक्रेन से वापस भारत लौट रहे हैं, उनमें से कई लोगों ने अपने गुदगुदे (और कई मामलों में भयंकर भी) दोस्तों को पीछे छोड़ने से इनकार कर दिया है. अपने-अपने प्रिय कुत्तों और बिल्लियों के साथ वापस लौटने वाले छात्रों की कहानियां सामने आने के बाद, अब एक सबसे ताजातरीन कहानी यूक्रेन में रह रहे एक भारतीय डॉक्टर की है, जिसने इस वजह से वह देश छोड़ने से इनकार कर दिया है क्योंकि वह अपने दो पालतू जानवरों – एक जगुआर और एक काले तेंदुए – को छोड़ना नहीं चाहता है. हां, आपने एकदम सही पढ़ा है. डॉक्टर और यूट्यूब व्लॉगर कुमार बंदी, आंध्र प्रदेश के मूल निवासी जो पिछले 15 वर्षों से यूक्रेन में रह रहे हैं, अब अपने पालतू जानवरों के साथ डोनबास के एक बंकर में रह रहे हैं.

अन्य लोगों, साथी भारतीयों, को वहां से निकालने में मदद करने के बावजूद खुद के यूक्रेन में बने रहने के अपने फैसले के बारे में बात करते हुए अपने यूट्यूब चैनल पर पोस्ट एक वीडियो में बांदी ने कहा कि, ‘यदि मैं उन्हें छोड़ कर चला जाऊं तो वे निश्चित रूप से मर जायेंगे, और मैं इसे सहन नहीं कर सकता. मैं अपनी अंतिम सांस तक उनकी देखभाल करूंगा, और यदि मैं मर भी गया, तो मैं उनके साथ ही मारा जाऊंगा’. कई भारतीय छात्र भी अपने पालतू जानवरों के साथ ही अपने-अपने घर लौटें हैं, और इनमें से कुछ ने तो उन्हें वापस लाने के लिए कुछ निजी सामान को भी पीछे छोड़ दिया है.

भारत सरकार ने भी विषम परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए विदेश से पालतू जानवर लाने की अपनी नीतियों पर एक बार की विशेष रियायत प्रदान की है. बांदी फ़िलहाल यूक्रेन की राजधानी कीव से लगभग 850 किलोमीटर दूर स्थित डोनबास क्षेत्र – जिसमें वे लुहान्स्क और डोनेट्स्क के वे प्रान्त शामिल हैं, जिन्हें रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने स्वतंत्र गणराज्यों के रूप में मान्यता दे दी है – में बने अपने घर पर है. उनका दावा है कि उनका एक पालतू जगुआर – जिसका नाम ‘यगवार’ है – एक अमूर इलाके के तेंदुए और एक जगुआर की संकर-नस्ल (क्रॉसब्रीड) है, और इस प्रकार यह एक दुर्लभ प्रजाति है.

खबरों से पता चलता है कि बंदी, जो हमेशा एक पशु प्रेमी रहे हैं, के पास कई पालतू बिल्लियां, कुत्ते और पक्षी भी हैं, लेकिन एक तेलुगु फिल्म – जिसमें नायक के पास एक पालतू तेंदुआ था – देखने के बाद उनमें बिल्ली प्रजाति के बड़े जीव पालने की इच्छा विकसित हुई. 15 साल पहले जब वह मेडिकल की पढाई करने के लिए यूक्रेन गए थे, तो बंदी एक रॉयल बंगाल टाइगर या एशियाई शेर पालने के लिए प्राप्त करना चाहते थे, लेकिन अधिकारियों ने उन्हें इसके लिए अनुमति देने से इनकार कर दिया. फिर उन्होंने जगुआर की एक दुर्लभ नस्ल प्राप्त करने के बारे में सोचा, जिसके लिए उन्हें बाद में अनुमति दे दी गई. बांदी का यूट्यूब चैनल, जिसे जगुआर कुमार कहा जाता है, यगवार के दिनों तथा बंदी द्वारा उसे पालने-पोसने और बड़ा करने के अनुभवों को बयां करता है. इस चैनल पर अपलोड किए गए पिछले कुछ वीडियो में बंदी और यगवार डोनबास स्थित कुमार के घर में बने बंकर में रहते दिखाई दे रहे हैं.

बंदी के भाई राम बंदी ने उनसे पहले ही यूक्रेन में मेडिकल की पढाई की थी और कुमार बंदी ने वहां की कुछ फिल्मों में भी अभिनय किया है. अब कुमार बंदी ने दोनों भाइयों द्वारा यूक्रेन में फंसे अन्य भारतीयों के लिए मदद की व्यवस्था करते हुए वीडियो भी अपलोड किया. हालांकि, अपने गहरे संपर्कों के बावजूद, उन्होंने जोर देकर कहा कि वह अपने दो पालतू जानवरों को अकेले नहीं छोड़ेंगे. बंदी ने अपने चैनल पर तेलुगु में अपलोड किए गए एक वीडियो में कहा, ‘यदि मैं उन्हें छोड़ कर चला जाऊं तो वे निश्चित रूप से मर जायेंगे, और मैं इसे सहन नहीं कर सकता. मैं अपनी अंतिम सांस तक उनकी देखभाल करूंगा और यदि मैं मर भी गया, तो मैं उनके साथ ही मारा जाऊंगा.’

News9 आर्यावर्त
News9 आर्यावर्त
News9 Aryavart is an emerging news portal of India that has achieved credibility in a very short time. The News9 Aryavart is an Independent, most credible, authentic and trusted news portal covering the latest trends from India and around the world.

Click To Join Us on Telegram Group

Must Read

Translate »